Home Trending topics Indus Valley Civilization | सिंधु घाटी सभ्यता से जुड़ी महत्‍वपूर्ण जानकारी और...

Indus Valley Civilization | सिंधु घाटी सभ्यता से जुड़ी महत्‍वपूर्ण जानकारी और तथ्‍य

 Indus Valley Civilization | सिंधु घाटी सभ्यता

सिंधु-घाटी-सभ्यता
Sindhu Ghati Sabhyata by samjhakya

सिंधु घाटी सभ्यता-

  1. सिंधु घाटी सभ्यता मातृसत्तात्मक थी।
  2. इसकी प्रमुख योग्यता नगर निर्माण योजना थी। सड़क एक दूसरे को समकोण पर काटते थे।
  3. हड़प्पा सभ्यता का प्रमुख आधार कृषि था कृषि तथा पशुपालन के साथ-साथ व्यापार भी अर्थव्यवस्था का आधार था।
  4. हड़प्पा में आंतरिक एवं विदेशी दोनों व्यापार होता था। व्यापार वस्तु व्यापार प्रणाली से होता था।
  5. विश्व में सर्वप्रथम कपास की खेती यही के लोगों ने शुरू की थी। यूनानी लोग सिण्डन के नाम से जानते थे।
  6. सिंधु सभ्यता के लोग गाय, बैल, बकरी, भेड़ आदि पालते थे। पशुओं में कूबड़ वाला सांड सबसे महत्वपूर्ण पशु था। इसकी पूजा की जाती थी।
  7. मृतकों के संदर्भ में पूर्व सामाजिकरण, आंशिक सामाजिकरण तथा दाह संस्कार तीनों प्रचलित थी। R.37 कब्रिस्तान हड़प्पा स्थल से प्राप्त किया गया है।
  8. लोथल  तथा काबंलीगा  स्थल से युग्म शवधान प्राप्त हुआ है जिससे सती प्रथा का प्रचलन का आभास होता है।
  9. स्वास्तिक संभवत हड़प्पा सभ्यता की ही देन है।
  10. हड़प्पा सभ्यता की लिपि चित्रात्मक थी यह लिपि दाएं से बाएं लिखी जाती थी। इस शैली को ब्रूस्टोफैडन शैली कहा जाता था।

isse bhi padhe- बोडो समझौता क्या है

हड़प्पा स्थल-

1921 में दयाराम साहनी ने रावी नदी के किनारे पाकिस्तान के मोंटगोमरी जिले में इसकी खोज की थी।

यहां से श्रमिक निवास, कांसे के दर्पण, धोती पहने मूर्ति का साछ्य मिला है।

मोहनजोदड़ो (मृतकों का टीला)-

इसकी खोज 1922 में  राखल दास बनर्जी द्वारा पाकिस्तान के लरकाना जिले में सिंधु नदी के किनारे की गई थी।

यहां से कांसे की नृतकी, स्नानघर, अन्नागार (सिंधु सभ्यता की सबसे बड़ी इमारत थी), दाढ़ी युक्त साधु, पशुपति शिव अंकित मुहर मिले थे।

Mirjapur seasion 2 Review

चन्हूदरो-

1931 में NG मजुमदार ने इसकी खोज पाकिस्तान के सिंध प्रांत सिंधु नदी के किनारे की थी।

यहां से कंघा, लिपस्टिक, के साक्ष्य, मनका बनाने का कारखाना आदि के साक्ष्य मिले हैं।

लोथल-

1957 में रंगनाथ राव ने गुजरात के अहमदाबाद जिले में भोगवा नदी के किनारे की थी। यहां से सोने के मनके, धान के प्रमाण, गोदीवारा बंदरगाह, अग्निवेदिकाएं का साक्ष्य मिला है।

isse bhi padhe- About Election Commition 

कालीबंगा-

इसका अर्थ काले रंग की चूड़ी होती है। इसकी खोज अमूला नंद घोष ने 1953 में राजस्थान के हनुमानगढ़ जिले में घग्गर नदी के किनारे की थी। यहां से ऊंट की हड्डी, हल द्वारा जूते हुए खेत का साक्ष्य मिला है। बेलाकार मोहर, भूकंप के साक्ष्य मिले हैं।

वनावली-

1973 में आर एस बिष्ट ने इसकी खोज हरियाणा के फलिहाबाद में रंगोई नदी सरस्वती के किनारे की थी। यहां से तांबे की बंसी, मिट्टी के बने हल, मिट्टी के मनके के साक्ष्य मिले थे।

स्वतंत्रता प्राप्ति के पश्चात सिंधु घाटी सभ्यता के सर्वाधिक स्थल गुजरात से प्राप्त हुए हैं।

FOLLOW MY FACEBOOK PAGE

samjhakya
Hello, I'm Anoop Rajvanshi and founder of samjhakya.com . Samjhakya is best portal for educational blogs here you can get detailed knowledge. Thankyou

1 COMMENT

Comments are closed.

Most Popular

Arnab Goswami Arrested by Mumbai Police| Full case explanation in Hindi

हेलो दोस्तों आज हम Arnab Goswami के Arrest पर कुछ बात करेंगे। जो कि इस टाइम की सबसे बड़ी खबर बन चुकी है। अर्नब...

Narco Test Kya Hota Hai full Detailed Knowledge in Hindi- Samjha Kya

हैलो दोस्तों आज हम Narco Test के बारे में बात करेंगे। यह नारको टेस्ट होता कैसे है? इसे क्यों करवाया जाता है? इससे फायदा...

Portfoliyo Management Kya Hota Hota Hai?- samjhakya.com

हैलो दोस्तों आज हम Portfolio Management के बारे में बात करेंगे। यह पोर्टफोलियो मैनेजमेंट होता क्या है? और इसे करते कैसे हैं? इस मैनेजमेंट...

What is Code of Conduct? आचार संहिता चुनाव के लिये क्यो जरूरी है?

दोस्तों, यह तो आप सभी ने सुना होगा कि हमारे यहां पर जब कभी किसी पार्टी के चुनाव होते हैं तो उसके कुछ दिन...